Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.
Upcoming SlideShare
What to Upload to SlideShare
What to Upload to SlideShare
Loading in …3
×
1 of 4

Class 5th raakh ki rassi bhag 1, by Mool Chand Meena

0

Share

Download to read offline

KVS RO Chennai blog

Related Books

Free with a 30 day trial from Scribd

See all

Related Audiobooks

Free with a 30 day trial from Scribd

See all

Class 5th raakh ki rassi bhag 1, by Mool Chand Meena

  1. 1. Class-Vth subject- ह िंदी Topic: राख की रस्सी Mool chand Meena PRT Kendriya Vidyalaya vijayanarayanam
  2. 2. लोनपो गार तिब्बि क े बत्तीसवें(32)राजा सौनगवसैन गाांपो क े मांत्री थे। वे अपनी चालाकी और हाज़िरजवाबी क े ललए दूर-दूर िक मशहूर थे। कोई उनक े सामने टिकिा न था। चैन से ज़जांदगी चल रही थी। मगर जब से उनका बेिा बडा हुआ था उनक े ललए चचांिा का ववषय बना हुआ था। कारण यह था कक वह बहुि भोला था।होलशयारी उसे छ ू कर भी नहीां गई थी। लोनपो गार ने सोचा, “मेरा बेिा बहुि सीधा-सादा है। मेरे बाद इसका काम क ै से चलेगा !”
  3. 3. एक टदन लोनपो गार ने अपने बेिे को सौेे भेडें देिे हुए कहा, “िुम इन्हें लेकर शहर जाओ। मगर इन्हें मारना या बेचना नहीां। इन्हें वापस लाना सौ जौ क े बोरों क े साथ। वरना मैं िुम्हें घर में नहीां घुसने दूूँगा।” इसक े बाद उन्होंने बेिे को शहर की िरफ़ रवाना ककया।
  4. 4. लोनपो गार का बेिा शहर पहुूँच गया। मगर इिने बोरे जौ खरीदने क े ललए उसक े पास रुपए ही कहाूँ थे? वह इस समस्या पर सोचने-ववचारने क े ललए सडक क े ककनारे बैठ गया। मगर कोई हल उसकी समझ में ही नहीां आ रहा था। वह बहुि दुखी था। िभी एक लडकी उसक े सामने आ खडी हुई। “क्या बाि है िुम इिने दुखी क्यों हो?” लोनपो गार क े बेिे ने अपना हाल कह सुनाया। “इसमें इिना दुखी होने की कोई बाि नहीां। मैं इसका हल तनकाल देिी हूूँ।” इिना कहकर लडकी ने भेडों क े बाल उिारे और उन्हें बाजार में बेच टदया। जो रुपए लमले उनसे जौ क े सौ बोरे खरीद कर उसे घर वापस भेज टदया।

×