Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

Geography topic-prathvee-ka-antrik-bhag-(2 b)

4,407 views

Published on

Geography topic-prathvee-ka-antrik-bhag-(2b)

Published in: Education
  • Login to see the comments

  • Be the first to like this

Geography topic-prathvee-ka-antrik-bhag-(2 b)

  1. 1. पृथ्वी का आंतरिक भाग भारत और विश्ि का भूगोल www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  2. 2. • पृथ्वी की आन्तरिक संिचना के सम्बन्ध में अभी भी वैज्ञाननकों में मतभेद है। • भू गभभ में पाई जाने वाली पितो की मोटाई, घनत्व, तापमान, भाि तथा वहााँ पि पाए जाने वाले पदाथभ की प्रकृ नत पि अभी पूर्भ सहमनत नही हो पाई है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  3. 3. • सबसे उपिी पित को भू पपभटी कहते है।इसकी औसत मोटाइ 33 कक. मी. है। • यह एक ठोस पित है जजसकी िचना चट्टानों से हुई है। इसके तुिंत नीचे मैंटल (डंदजसम) हैं जो 2900 कक0 मी0 की गहिाई तक ववस्तृत है। • मैंटल के नीचे अथाभत 2900 कक0 मी0 से अधधक गहिाई पि पृथ्वी का क्रोड ;ब्वतमद्ध है जो पृथ्वी के कें द्र तक ववस्तृत है। • इसे बाहा क्रोड (द्रव) तथा आंतरिक क्रोड (ठोस) में बााँटा गया है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  4. 4. ववभभन्न स्रोतों द्वािा प्रमार् एकत्रित किके पृथ्वी की आंतरिक िचना के संबंध मे जानकािी प्राप्त किने के प्रयास ककए गए हैं।ये प्रमार् ननम्नभलखित हैं: • घनत्व पि आधारित प्रमार् • तापमान पि आधारित प्रमार् • दबाव पि आधारित प्रमार् • भूकम्पीय तिंगो पि आधारित प्रमार् Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  5. 5. भूकम्प के समय मुख्यतः तीन प्रकाि की तिंगे उत्पन्न होती है जजनका वर्भन इस प्रकाि है: • पी तिंगें (P-Waves): ये तिंगे ककसी भी स्थान पि सबसे पहले पहुाँचती हैं। ये ठोस, तिल तथा गैसीय तीनों ही माध्यमों से गुजि सकती हैं। • एस , तिंगें( S- Waves) : इन तिंगों की संचिर् ददशा तथा कर्ों के दोलन की ददशा एक दुसिे के समकोर् पि होती है ,इनकी औसत गनत 4 कक0 मी0 प्रनत सेकण्ड होती हैं। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  6. 6. • एल तिंगे( L-Waves): इन्हे धिातलीय या लम्बी तिंगो(Surface or Long Waves) के नाम से भी पुकािा जाता है ये तिंगे मुख्यतः धिातल तक ही सीभमत िहती हैं। ये ठोस, तिल तथा गैस तीन माध्यमों मे से गुजि सकती हैं। पिन्तु ये 3 कक0 मी0 प्रनत सेकण्ड की कम गनत से आगे बढ़ती है । भुकं प द्वािा उत्पन्न कई तिंग गनतयााँ (पी तथा एस तिंगे) कायभ तिंगो के वगभ मे आती है क्योंकक ये पृथ्वी के ठोस भाग से यािा किती है Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  7. 7. भूकम्पीय तरंगो का व्यिहार भूकम्पीय तिंगो को भसस्मोग्राफ (Seismograph) नामक यन्ि द्वािा िेिांककत ककया जाता है। • सभी भूकम्पीय तिंगो का वेग अधधक घनत्व वाले पदाथो मे से गुजिने पि घट जाता है। • के वल प्राथभमक तिंगे ही पृथ्वी के के न्द्रीय भाग से गुजि सकती है। पिन्तु वहााँ पि उनका वेग कम हो जाता है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  8. 8. • गौर् तिंगे द्रव पदाथभ मे से नही गुजि सकती । • एल तिंगे के वल धिातल के पास ही चलती है। • ववभभन्न माध्यमों मे से गुजिते समय ये तिंगें पिावनतभत (Reflect) तथा आवनतभत (Refract) होती हैं। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  9. 9. ऑनलाइन कोच ंग के बारे में अचिक जानकारी के ललए यहां क्ललक करें http://iasexamportal.com/civilservices/courses/ias-pre/csat- paper-1-hindi हार्ड कॉपी में सामान्य अध्ययन प्रारंलभक परीक्षा (स्टर्ी ककट - पेपर - 1 (Paper - 1) खरीदने के ललए यहां क्ललक करें http://iasexamportal.com/civilservices/study-kit/ias-pre/csat- paper-1-hindi Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  10. 10. IASEXAMPORTAL Other Online Courses Online Course for Civil Services Preliminary Examination  सीसैट (CSAT) प्रािंभभक पिीक्षा के भलए ऑनलाइन कोधचंग (पेपि - 2)  Online Coaching for CSAT Paper - 1 (GS)  Online Coaching for CSAT Paper - 2 (CSAT) Online Course for Civil Services Mains Examination General Studies Mains (NEW PATTERN - Paper 2,3,4,5) Public Administration for Mains For Know More Click Here: http://iasexamportal.com/civilservices/courses Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM

×